पीएम शहरी आवास योजना की जांच में 143 मिले अपात्र, जांच की टीम ने भेजी रिपोर्ट

बस्ती : केंद्र सरकार देश के कम आय वर्ग के लोगों की मदद के लिए हर समय कुछ न कुछ कदम उठाती ही रहती है। देश के गरीब से लेकर मध्यमवर्ग (Middle Class)  के व्यक्ति के पास खुद की रहने की छत हो इसके लिए केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत की थी। इस योजना के जरिए सरकार  देश के गरीब और मध्यम वर्ग को कम पैसों में एक घर देती है।

पीएम आवास शहरी योजना की जांच में 179 लाभार्थियों के सापेक्ष 143 अपात्र पाए गए। जांच टीम ने रिपोर्ट तहसीलदार हर्रैया को और तहसीलदार ने रिपोर्ट डीएम को भेजी है।

प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के तहत आदर्श नगर पंचायत बभनान में आवास आवंटन में खेल कोई नया नहीं है। पूर्व ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा की जांच में 244 लाभार्थी अपात्र पाए गए थे। सभी को पहली किस्त जारी कर दी गई थी। जांच के बाद रिकवरी के लिए विभाग को नोटिस जारी करने का निर्देश दिया गया था।

इसके बाद जनप्रतिनिधियों के आग्रह पर पुन छंटनी कर सूची का सत्यापन कराया गया और कुछ लोगों को पात्र कर दिया गया। अब एक बार पुन डीएम बस्ती प्रियंका निरंजन के निर्देश पर 179 लाभार्थियों का भौतिक सत्यापन कराया गया। जिसमें 36 पात्र पाए गए।

पीएमएवाई क्या है?
पीएम आवास योजना शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करके भारत में आवास की कमी को खत्म करने का लक्ष्य रखती है। इसके दो घटक हैं – पीएमएवाई शहरी और पीएमएवाई ग्रामीण – जिन्हें औपचारिक रूप से प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी और प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के रूप में जाना जाता है।

उद्देश्य

सुनिश्चित करें कि झोपड़पट्टियों सहित सभी शहरी गरीबों की आवास आवश्यकता विभिन्न कार्यक्रम वर्टिकल के माध्यम से मिलती है।
मुख्य उद्देश्य सभी योग्य परिवारों / लाभार्थियों को घर उपलब्ध कराने के लिए राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के माध्यम से कार्यान्वयन एजेंसियों को केंद्रीय सहायता प्रदान करना है ।
पानी कनेक्शन, शौचालय और बिजली की सुविधाओं के साथ पक्का घर प्रदान करें।
सुनिश्चित करें कि शहरी इलाके मुक्त हैं और सभी नागरिकों के पास बुनियादी सेवाओं तक पहुंच है
राष्ट्रीय भवन संहिता (एनबीसी) और अन्य मानक ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड (बीआईएस) कोड के अनुरूप भूकंप, बाढ़, चक्रवात, भूस्खलन इत्यादि के खिलाफ संरचनात्मक सुरक्षा की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिजाइन और निर्माण किए गए घर प्रदान करें।

लाभार्थी:

आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस), कम आय वाले समूह (एलआईजी) और मध्य आय समूह (एमआईजी)।

Sarajuddin Khan

Content Writer from Siddharth Nagar UP. INDIA

Leave a Reply

Your email address will not be published.